वह संसार नहीं लेकिन हम हैं, जिसे हमें पहले बदलना है

  • समय |
  • वाचन | 286
परमेश्वर ने उद्धार की भव्य योजना से पृथ्वी की सृष्टि की।
परमेश्वर का कार्य तब होता है जब हम इस संसार की,
जो शरणनगर है, स्थितियों और परिस्थितियों को बदलने की
चाहत रखने के बजाय विश्वास रखने वालों में बदल जाएं।

– राजा के बारे में कहानी जिसने अपने लोगों के लिए
तीर्थयात्रा पर जाने के लिए जूते बनाए

– प्रेरित पौलुस जिसने गवाही दी
कि हमें हर स्थिति में संतुष्ट रहना चाहिए

– गिदोन के 300 योद्धा जिन्होंने 1Ê35,000 को हराया

– यहोशू और कालेब जिन्होंने वास्तविकता को न देखते हुएÊ
परमेश्वर की प्रतिज्ञा पर विश्वास किया।
वीडियोओडियो
मेरे द्वारा देखे गए उपदेश