한국어 English 日本語 中文 Deutsch Español Tiếng Việt Português Русский लॉग इनरजिस्टर

लॉग इन

आपका स्वागत है

Thank you for visiting the World Mission Society Church of God website.

You can log on to access the Members Only area of the website.
लॉग इन
आईडी
पासवर्ड

क्या पासवर्ड भूल गए है? / रजिस्टर

टेक्स्ट उपदेश

한국어 제목표시
टेक्स्ट उपदेशों को प्रिंट करना या उसका प्रेषण करना निषेध है। कृपया जो भी आपने एहसास प्राप्त किया, उसे आपके मन में रखिए और उसकी सिय्योन की सुगंध दूसरों के साथ बांटिए।

पृष्ठ »

prev1 2 ... 5 6 7 8 9 10 11 12 13 ... 18 19next

नए सिरे से जन्मे लोग

거듭난 사람들

हाल ही में पूरे संसार से ऐसी खबरों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है कि सदस्य पश्चाताप करते हुए सुंदर ढंग से एकजुट हो रहे हैं। और दुनिया के कोने–कोने से यह समाचार आ रहा है कि बहुत सदस्य जो स्वर्गीय माता के अच्छे उदाहरण और शिक्षाओं के द्वारा प्रेरित हुए हैं, आंसुओं के साथ अपनी गलती के लिए पहले माफी मांगकर समझौता कर रहे हैं और पश्चाताप का जीवन जीने का संकल्प कर रहे हैं। “माफ कीजिए” या “क्षमा कीजिए” जैसी बात अब हमारे मन में गहरी गूंज पैदा कर रही है। परमेश्वर ने कहा है कि जब स्वर्ग का राज्य निकट है, तब परमेश्वर सदस्यों के हृदयों को एक होने देंगे आरै हमारे कठोर हृदयों को कोमल हृदयों में बदलेंगे(यहेज 36:24–27)। इस वचन को...

सुसमाचार का कार्य परमेश्वर की योजना के अनुसार होता है

하나님의 뜻대로 진행되는 복음의 역사

परमेश्वर हमें हमेशा साहस देते हैं, ताकि हम हिम्मत जुटाकर निडर हो सकें। लेकिन जब कभी हम सुसमाचार का प्रचार करते हुए मुश्किल स्थिति का सामना करते हैं, तब हम मारे डर के जम–से जाते हैं। परमेश्वर कहते हैं, “मत डर, क्योंकि मैं तेरे संग हूं(यश 41:10)।” भले ही हम परमेश्वर के इन वचनों को सुनते हैं, लेकिन कभी–कभी हम अंदरूनी पहलू के बजाय सिर्फ बाहर से दिखाई देने वाली स्थिति पर ध्यान देते हैं। यदि सत्य के प्रचारक हिचकिचाएं या पीछे हटें, तो सुसमाचार का कार्य पूरा नहीं हो सकेगा। जब हम महसूस करें कि हमारे परमेश्वर कितने महान हैं और दृढ़ता से विश्वास करें कि परमेश्वर स्वयं सुसमाचार के कार्य की अगुवाई कर रहे हैं, सिर्फ तब ही हम आत्मविश्व...

स्वर्गीय माता ने हमारा भाग्य बदला है

우리의 운명을 바꿔주신 하늘 어머니

सुसमाचार अब तेजी से दुनिया भर में फैलाया जा रहा है। जैसे बाइबल में भविष्यवाणी की गई है, खोए हुए स्वर्गीय परिवार के सदस्यों को खोजने का उद्धार का कार्य दुनिया में कोलाहल मचा रहा है, और जहां कहीं हमारे भाई–बहनें जाते हैं, वहां परमेश्वर सिय्योन स्थापित करते हैं। मैं विश्वास करता हूं कि यह सब परिणाम इसलिए आया है क्योंकि सिय्योन के सदस्यों ने पूरे जोश के साथ एक होकर मिलजुलकर सुसमाचार का काम किया है। उज्ज्वल भविष्य हमारा इंतजार कर रहा है। परमेश्वर का वचन यह पक्का वादा करता है कि जब यरूशलेम माता की महिमा फैल जाएगी, तब सब जातियों के लोग परमेश्वर के पास लौटेंगे और परमेश्वर के लोग अनन्त स्वर्ग के राज्य में युगानुयुग राज्य करेंगे।...

लोग जो आशीषें पहुंचाते हैं

축복을 전하는 자들

सर्वशक्तिमान परमेश्वर सभी मनुष्यों के जीवन, मृत्यु, सौभाग्य और दुर्भाग्य का नियंत्रण करते हैं। वह उन्हें जो उनके वचनों को मानते हैं, आशीष देते हैं और जो नहीं मानते, उन्हें दण्ड देते हैं। आशीषों की प्रतिज्ञा उन्हें दी जाती है जो परमेश्वर को अपना खजाना मानते हैं और उनकी शिक्षाओं का पालन करते हैं(व्य 30:15–16; अय 22:21–28)। इसलिए आइए हम स्वर्ग की संतानों के रूप में दृढ़ता से विश्वास करें कि जैसी प्रतिज्ञा परमेश्वर ने हमसे की है, उसी प्रकार सब कुछ सफलतापूर्वक पूरा किया जाएगा, और आइए हम स्वर्ग के राज्य में बलपूर्वक प्रवेश करने का प्रयास करें ताकि हम उन सभी आशीषों को पा सकें जो परमेश्वर हमें देंगे। चूंकि हम सिय्योन के लोगों ...

परमेश्वर का बचानेवाला प्रेम

구원에 이르게 하기 위한 하나님의 사랑

परमेश्वर प्रेम हैं(1यूह 4:8)। वह पूरे अंतरिक्ष का संचालन करते और शासन करते हैं, और वह असंख्य स्वर्गदूतों से आदर और महिमा पाने के योग्य हैं। लेकिन वह स्वर्ग की महिमा पीछे छोड़कर अपनी संतानों को बचाने के लिए इस छोटी सी पृथ्वी पर आए। वह पापियों के समान शरीर में आए और उन्होंने पापियों के द्वारा हर प्रकार की निन्दा और अपमान को सहन किया। वह सिर्फ अपनी संतानों के उद्धार की आशा रखते हुए बलिदान के मार्ग पर चले। इसलिए बाइबल कहती है कि परमेश्वर प्रेम हैं।   परमेश्वर के महान प्रेम ने हमें वह बनाया है जो आज हम हैं, इस तथ्य को फिर से सोचते हुए, आइए हम पिता और माता जो अपनी संतानों को बचाने के लिए इस पृथ्वी पर आए हैं, उनके पवित्र प्रे...

पवित्रशास्त्र में लिखा है कि ऐसा ही होना अवश्य है

이런 일이 있으리라 한 성경

आज दुनिया में बहुत से चर्च हैं, और उनमें से हर एक दावा करता है कि उसके पास सच्चा विश्वास है। लेकिन किसी के विश्वास का मानक परमेश्वर का वचन है। वह कभी मनुष्य का विचार नहीं हो सकता। जब हम बाइबल के वचनों को अपने विश्वास का केंद्र बनाएंगे, तब हम विश्वास के सही मार्ग पर जाकर अनन्त स्वर्ग के राज्य की ओर चल सकते हैं। बाइबल में परमेश्वर की भविष्यवाणियां हैं, जो दिखाती हैं कि भविष्य में क्या होगा। इसलिए ध्यान से बाइबल का अध्ययन करके, हम विश्वास का सही मार्ग खोज सकते हैं। अब, आइए हम बाइबल के द्वारा इस बात की पुष्टि करें कि परमेश्वर ने अपनी उन संतानों के लिए उद्धार की प्रतिज्ञा की है जो पश्चाताप करके स्वर्गीय यरूशलेम, यानी मात...

हमें परमेश्वर को क्या देना चाहिए?

무엇을 하나님께 드릴까

संसार में जीते हुए हमारे पास कुछ विशेष दिन होते हैं, जैसे कि जन्मदिवस, एडमिशन और गे्रजुएशन दिवस, शादी की सालगिरह इत्यादि। इन दिनों का परिवार के सदस्यों के लिए खास अर्थ होता है। इसलिए जब परिवार के सदस्यों में से एक सदस्य के पास कोई एक विशेष दिन होता है, तो परिवार के बाकी सदस्य यह सोचते हुए उत्सुक होते हैं कि उसके लिए क्या उपहार तैयार करें। फिर, जब हम अपने आत्मिक घर स्वर्ग वापस जाएं, तब हमें अपने आत्मिक माता–पिता, यानी पिता परमेश्वर और माता परमेश्वर को क्या देना चाहिए? परमेश्वर के लिए सबसे मनपसंद उपहार क्या है? हमने परमेश्वर की संतानों के रूप में अब तक सिर्फ परमेश्वर से पाया है; जीवन, प्रेम और बाकी सब कुछ पाया है। अब से ह...

विश्वास का तेल

믿음의 기름

स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के लिए हमें विश्वास की निश्चित ही आवश्यकता है। जैसे बाइबल कहती है, “विश्वास के बिना परमेश्वर को प्रसन्न करना अनहोना है(इब्र 11:6),” विश्वास एक आवश्यक तत्व है जो स्वर्ग के राज्य में जाने के लिए हमारे पास होना चाहिए। तब, यह जानने का तरीका क्या है कि हमारे पास कितना विश्वास है? जब हम बीमार होते हैं, तब हमारा शरीर लक्षण दिखाता है। उसी तरह, जब हम अपने हृदयों को विश्वास से भरने में नाकाम हों, तब हम आत्मिक बीमारी के बहुत से लक्षण दिखाएंगे; हम हमेशा कुड़कुड़ाते और शिकायत करते हैं, परमेश्वर के वचनों पर संदेह करते हैं और परमेश्वर की शक्ति पर विश्वास नहीं करते। ऐसे गलत विचारों और व्यवहारों की श्रृंखल...

prev1 2 ... 5 6 7 8 9 10 11 12 13 ... 18 19next