한국어 English 日本語 中文 Deutsch Español Tiếng Việt Português Русский लॉग इनरजिस्टर

लॉग इन

आपका स्वागत है

Thank you for visiting the World Mission Society Church of God website.

You can log on to access the Members Only area of the website.
लॉग इन
आईडी
पासवर्ड

क्या पासवर्ड भूल गए है? / रजिस्टर

टेक्स्ट उपदेश

한국어 제목표시
टेक्स्ट उपदेशों को प्रिंट करना या उसका प्रेषण करना निषेध है। कृपया जो भी आपने एहसास प्राप्त किया, उसे आपके मन में रखिए और उसकी सिय्योन की सुगंध दूसरों के साथ बांटिए।

पृष्ठ »

prev1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 next

आसान मार्ग और सही मार्ग

쉬운 길과 옳은 길

हर किसी के जीवन में हमेशा एक आसान मार्ग होता है और एक सही मार्ग होता है। जब जापान ने कोरिया को अपना उपनिवेश बनाया, कुछ लोगों ने एक आसान और आरामदायक जीवन जीने के मार्ग को चुना, लेकिन कुछ ने सही मार्ग को चुना और अपने देश की आजादी के लिए संघर्ष करते हुए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। अपने चुनाव के अनुसार, उन्होंने पूरी तरह से अलग–अलग जीवन जिया, और अंत में उन्हें बिल्कुल अलग–अलग परिणाम मिले: पहले वाले लोगों पर देशद्रोही का कलंक लगाया गया, लेकिन दूसरे वाले लोगों को कोरियाई आजादी के सेनानी के रूप में ख्याति प्राप्त हुई, और पीढ़ी दर पीढ़ी उनके नामों को याद किया जाता है। हमारे विश्वास के जीवन में भी एक आसान मार्ग होता है और एक स...

जब हम परमेश्वर के द्वारा बुलाए जाते हैं

하나님의 부르심을 받을 때

जब हम परमेश्वर के द्वारा बुलाए जाते हैं, ‘क्या मैं इसके योग्य हूं?’ ‘क्या मेरे पास यह करने की क्षमता है?’ ऐसा सोचते हुए, हम पहले अपनी क्षमताओं की जांच करते हैं। यदि हम सोचेंगे कि जो परमेश्वर ने हमें करने के लिए बुलाया, क्या उसे हम असल में अपनी क्षमता से कर पाएंगे या नहीं, तो हम अंत में यह कहते हुए समाप्त कर देंगे कि हम यह नहीं कर सकेंगे। जब परमेश्वर हमें बुलाते हैं, तब जो हम सभी को करना चाहिए, वह “आमीन” कहते हुए, परमेश्वर की बुलाहट का पालन करना है। तब परमेश्वर की शक्ति के द्वारा उद्धार का कार्य तेजी से चलेगा। परमेश्वर हमें बुला रहे हैं, इसका कारण यह नहीं कि वह हमारी क्षमताओं का उपयोग करने के द्वारा अपना कार्य पूरा करे...

न्याय का सिंहासन और कार्यों का अभिलेख

심판의 보좌와 행실록

हम प्रकाशितवाक्य में देखते हैं कि एक पुस्तक जिसमें हर व्यक्ति के अपने जीवनकाल में किए गए कार्यों का अभिलेख है, न्याय के सिंहासन के सामने खोली जाएगी जब परमेश्वर मानवजाति का न्याय करेंगे। जो कुछ उस पुस्तक में लिखा है उसके अनुसार, परमेश्वर जांचेंगे कि क्या उसने धर्म का काम किया है या अधर्म का काम किया है, और क्या उसने परमेश्वर की इच्छानुसार भला काम किया है या दुष्ट काम किया है; इस तरह परमेश्वर इस पृथ्वी पर हमारे जीवन के पूरे पाठ्यक्रम के द्वारा हमें जांचेंगे और हमारे कामों के अनुसार हमारा न्याय करेंगे। इसलिए हर पल जो हमें हर दिन दिया जाता है, बहुत ही महत्वपूर्ण है। जिनके कार्यों का अभिलेख दुष्ट कामों से भरा है, उनका न्...

मसीह की सुगन्ध और माता की सुगन्ध

그리스도의 냄새와 어머니의 냄새

आज हर वह सिय्योन जो माता और माता के प्रेम का प्रचार करता है, सुसमाचार का कार्य अनुग्रहपूर्ण और सुचारु रूप से कर रहा है। जितना ज्यादा माता का सत्य प्रसारित किया जाता है, उतनी अधिक आत्माएं सिय्योन की ओर उमड़ आती हैं। ऐसा क्यों होता है? ऐसा इसलिए होता है कि सिय्योन में माता की सुगन्ध है। बाइबल ने परमेश्वर के लोगों की तुलना आकार की दृष्टि से ज्योति से की है, और स्वाद की दृष्टि से नमक(मत 5:13–16) से की है, और गंध की दृष्टि से “मसीह की सुगन्ध” से की है, जो मसीह के ज्ञान की सुगन्ध पूरे संसार में फैलाती है। पवित्र आत्मा के युग में परमेश्वर के लोग वह सुगन्ध हैं जो हमारे मसीह, पवित्र आत्मा और दुल्हिन, यानी पिता परमेश्वर और माता...

बुराई को छोड़ और भलाई कर

선을 행하고 악을 버리라

परमेश्वर ने हमें पृथ्वी का नमक और ज्योति कहा है।(मत 5:13–16) विश्वास में परमेश्वर की सन्तान के रूप में हमें अपने भले कामों के द्वारा संसार का नमक और ज्योति होना चाहिए। आज हम हर दिन न्यूज चैनलों में ऐसी क्रुर और भयंकर खबरें सुनते हैं कि मामूली सी बात से गलतफहमी होने के कारण लोग लड़ाई शुरू करते हैं और वह लड़ाई इतनी बढ़ जाती है कि वे बिना झिझक के दूसरों की हत्या करते हैं। बाइबल सिखाती है कि हम बुराई को छोड़ें और भलाई करें। यदि हमारे मन में बहुत ही अल्प या थोड़ी मात्रा में बुराई हो, तो हमें उसे अपने मन से हटाना चाहिए और स्वर्गीय संतान होने के नाते अपने दैनिक जीवन में परमेश्वर की शिक्षाओं पर और अधिक ध्यान देना चाहिए। आइए हम ...

मेरी इच्छा के अनुसार और पिता की इच्छा के अनुसार

내 뜻대로와 아버지의 뜻대로

दक्षिण कोरिया को हाल ही में बारिश की कमी होने के कारण सूखे जैसे हालात का सामना करना पड़ा। धान के खेत के विशाल क्षेत्र में सूखे के कारण कछुए के कवच की जैसी दरारें पड़ने और तालाबों का जलस्तर तेजी से कम होने की खबरें हर दिन अखबारों और न्यूज चैनलों में जगह पाती थीं। जब मैंने सूखे के बारे में खबर सुनी, मेरे मन में अचानक यह विचार आया, ‘लोग उत्सुकता से वर्षा का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन वे वर्षा देने वाले परमेश्वर पर क्यों विश्वास नहीं करते और उनके वचनों का पालन नहीं करते?’ यदि परमेश्वर वर्षा नहीं बरसाते, तो कौन पृथ्वी पर पहाड़ों, मैदानों और खेतों में इतनी बड़ी मात्रा में पानी प्रदान कर सकता होगा है? मनुष्य सोचते हैं कि वे अपने आ...

सारा की हंसी और सिय्योन

사라의 웃음과 시온

बाइबल में अब्राहम पिता परमेश्वर को दर्शाता है।(लूक 16:19–31) इसहाक जो उसकी विरासत का वारिस बना, परमेश्वर के लोगों, यानी प्रतिज्ञा की संतानों को दर्शाता है(गल 4:28)। और सारा जो अब्राहम की पत्नी और इसहाक की माता थी, हमारी माता को दर्शाती है जो नई वाचा की असलियत हैं।(गल 4:21–26) चूंकि इस अंधेरे और निर्दय संसार में परमेश्वर ने सत्य के नगर सिय्योन को स्थापित किया, इसलिए शैतान की शक्ति धीरे धीरे कम हो रही है, जबकि सिय्योन हर्ष, आनन्द, धन्यवाद और भजन गाने के शब्द से हर दिन भर रहा है(यश 51:3)। हम सिय्योन में अपने स्वर्गीय पिता और माता से मिले हैं। इसलिए हमें हमेशा आनन्दित रहकर अपनी स्वर्गीय माता को वैसी खुशी देनी चाहिए, जैसे ...

मरियम मगदलीनी के आंसू

막달라 마리아의 눈물

मत्ती में परमेश्वर का वर्णन “हमारे पिता”(मत 6:9) के रूप में किया गया है। गलातियों में परमेश्वर को “हमारी माता” के रूप में बताया गया है(गल 4:26)। 2कुरिन्थियों में हमें परमेश्वर के बेटे और बेटियां कहा गया है(2कुर 6:19)। हम बाइबल के इन सभी वचनों को एक साथ रखकर देखें तो हम जान सकते हैं कि हम स्वर्ग की संतान हैं और स्वर्गीय परिवार के सदस्य हैं जिनके पास पिता परमेश्वर और माता परमेश्वर हैं। जो भी हो, चूंकि स्वर्ग में पाप करने के कारण हमें इस पृथ्वी पर निकाल दिया गया है, इसलिए हमें यह याद नहीं है। हमारे लिए जो तीसरे आयाम में रहते हैं, यह याद करना बहुत मुश्किल है कि आत्मिक दुनिया में क्या हुआ था। “हमारे पिता और माता” केवल ना...

prev1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 next