한국어 English 日本語 中文 Deutsch Español Tiếng Việt Português Русский लॉग इनरजिस्टर

लॉग इन

आपका स्वागत है

Thank you for visiting the World Mission Society Church of God website.

You can log on to access the Members Only area of the website.
लॉग इन
आईडी
पासवर्ड

क्या पासवर्ड भूल गए है? / रजिस्टर

टेक्स्ट उपदेशों को प्रिंट करना या उसका प्रेषण करना निषेध है। कृपया जो भी आपने एहसास प्राप्त किया, उसे आपके मन में रखिए और उसकी सिय्योन की सुगंध दूसरों के साथ बांटिए।

कहना कि प्रभु को इनका प्रयोजन है

कहा जाता है कि सत्य सामान्य ज्ञान में पाया जाता है। कुछ लोग उसे विशेष वस्तुओं में खोजते हैं, लेकिन बाइबल हमें कहती है कि हमारे पास धन मिट्टी के बरतनों में रखा है। इस प्रकार, सत्य सामान्य ज्ञान में होता है।
परमेश्वर सब वस्तुओं की बड़ी ही शान्ति से सामान्य ढंग से अगुआई करते हैं। वास्तव में यीशु मसीह के कार्य केवल चमत्कारी चिन्हों और आश्चर्यकर्मों से ही नहीं भरे थे: हम उनके कार्यों में ऐसी बहुत सी बातों को खोज सकते हैं जो सामान्य लगती हैं। हालांकि, उनके चेलों ने और सुसमाचार के लेखकों ने, उन साधारण बातों में कुछ आत्मिक वस्तु देख ली, और उन्होंने लिखा कि पवित्र आत्मा से भरपूर होने से उन्होंने उसे महसूस किया। इसलिए अब हम, जो विश्वास में हैं, उनके लिखे लेखों से प्रभावित होते हैं।(2पत 1:20–21) हालांकि, सांसारिक दृष्टिकोण से, वे बातें सामान्य और तुच्छ लग सकती हैं।

कहना कि प्रभु को इनका प्रयोजन है


पिछले समय में, मैं बाइबल में यीशु मसीह के कहे एक वचन में बड़ा ही आनन्द पाता था। वहां लिखा हुआ है, “कहना कि प्रभु को इनका प्रयोजन है।” यह बहुत ही साधारण लगता है।

मत 21:1–11 जब वे यरूशलेम के निकट पहुंचे और जैतून पहाड़ पर बैतफगे के पास आए, तो यीशु ने दो चेलों को यह कहकर भेजा, “सामने के गांव में जाओ। वहां पहुंचते ही एक गदही बंधी हुई, और उसके साथ बच्चा तुम्हें मिलेगा। उन्हें खोलकर मेरे पास ले आओ। यदि तुम से कोई कुछ कहे, तो कहना कि प्रभु को इनका प्रयोजन है, तब वह तुरन्त उन्हें भेज देगा।” यह इसलिये हुआ कि जो वचन भविष्यद्वक्ता के द्वारा कहा गया था, वह पूरा हो: “सिय्योन की बेटी से कहो, ‘देख, तेरा राजा तेरे पास आता है; वह नम्र है, और गदहे पर बैठा है; वरन् लादू के बच्चे पर।’ ” चेलों ने जाकर, जैसा यीशु ने उनसे कहा था, वैसा ही किया। और गदही और बच्चे को लाकर, उन पर अपने कपड़े डाले, और वह उन पर बैठ गया...

जब यीशु ने यरूशलेम में प्रवेश किया, तो उन्होंने बाइबल की एक भविष्यवाणी को पूरा करने के लिए, अपने चेलों को एक गदहे को अपने पास ले आने को कहा। चेलों को बहुत अचम्भा हुआ। उन दिनों में, किसी गरीब व्यक्ति के लिए गदहा पालना बहुत मुश्किल था। यीशु और उनके चेलों के पास, जो अपना समय केवल राज्य का सुसमाचार प्रचार करने में व्यतीत करते थे, गदहा नहीं था। इसलिए चेले ऐसा सोचते हुए परेशान हो गए कि वे किसका गदहा लेकर आएं। तब यीशु ने उनसे कहा, “उससे कहो कि प्रभु को उसका प्रयोजन है।”
यदि कोई अजनबी कहे, “अपना गदहा दे दो, क्योंकि प्रभु को उसका प्रयोजन है,” तब कौन स्वेच्छा से वह दे देगा? हालांकि, जब चेलों ने उस गदहे के मालिक को उन्हें गदहा देने के लिए कहा, तो जैसा कि यीशु ने कहा था, उसने स्वेच्छा से उन्हें वह दे दिया। यह मसीह के राजा के रूप में गदहे पर आने की भविष्यवाणी को पूरा करने के लिए हुआ था।
देखने में यह एक तुच्छ बात लग सकती है कि यीशु ने गदहे पर बैठकर यरूशलेम में प्रवेश किया। हालांकि, आत्मिक रूप से यह भविष्यवाणी को पूरा करने के लिए हुआ था। जैसा कि यीशु ने कहा था, “उससे कहो कि प्रभु को उनका प्रयोजन है,” सब कुछ उसी प्रकार तैयार किया गया था।

उससे कहो कि प्रभु को उसकी अटारी का प्रयोजन है


यीशु ने वैसे ही शब्द फसह के पर्व के दिन भी कहे। इस पृथ्वी पर अपना कार्य पूरा करने के बाद क्रूस पर चढ़ाए जाने के पहले दिन की शाम को, यीशु ने अपने चेलों को फसह तैयार करने के लिए कहा, कि वह उसे नई वाचा के रूप में स्थापित कर सकें। तब चेले हैरान हो गए। यीशु ने उन्हें यह नहीं कहा कि कहां और क्या तैयारी करनी है; उन्होंने केवल कहा, “जाकर कहो कि प्रभु को उसका प्रयोजन है।” हालांकि, उन शब्दों ने सब कुछ मुमकिन बना दिया।

मर 14:12–16 अखमीरी रोटी के पर्व के पहले दिन, जिसमें वे फसह का बलिदान करते थे, उसके चेलों ने उससे पूछा, “तू कहां चाहता है कि हम जाकर तेरे लिये फसह खाने की तैयारी करें?” उसने अपने चेलों में से दो को यह कहकर भेजा, “नगर में जाओ, और एक मनुष्य जल का घड़ा उठाए हुए तुम्हें मिलेगा, उसके पीछे हो लेना; और वह जिस घर में जाए, उस घर के स्वामी से कहना, ‘गुरु कहता है कि मेरी पाहुनशाला जिसमें मैं अपने चेलों के साथ फसह खाऊं कहां है?’ वह तुम्हें एक सजी सजाई, और तैयार की हुई बड़ी अटारी दिखा देगा, वहां हमारे लिये तैयारी करो।” चेले निकलकर नगर में आये, और जैसा उसने उनसे कहा था, वैसा की पाया; और फसह तैयार किया।

चेले शहर में अमुक व्यक्ति के पास गए। उन्हें पता नहीं था कि शहर में उन्हें कौन मिलेगा, लेकिन वे गए और जैसा यीशु ने कहा था, वे पानी का घड़ा लेकर जा रहे एक व्यक्ति से मिले; और उससे कहा, “हमारे प्रभु ने तुम्हें यह कहने के लिए कहा है कि उन्हें तुम्हारे अतिथि कक्ष का प्रयोजन है।”
चेलों ने केवल उसे कहा कि प्रभु को उसके कक्ष का प्रयोजन है, और उसने स्वेच्छा से चेलों को एक बड़ी अटारी दिखाई, और वहां यीशु और उनके चेलों ने फसह का पर्व मनाया था। केवल इन शब्दों से, “प्रभु को उसका प्रयोजन है,” एक अतिथि कक्ष तुरन्त ही तैयार हो गया, जहां यीशु फसह का भोज खाने वाले थे। सब कुछ केवल इस एक ही वचन से तैयार किया गया था; “प्रभु को उसका प्रयोजन है।”

मैं तुम्हें मनुष्यों के मछुए बनाऊंगा


जब यीशु ने प्रथम चर्च में अपने चेलों को सत्य में बुलाकर, अपना सुसमाचार का कार्य पूरा किया, उस समय भी उन्होंने यही शब्द कहे, “प्रभु को इसका प्रयोजन है।”

मत 4:18–22 गलील की झील के किनारे फिरते हुए उसने दो भाइयों अर्थात् शमौन को जो पतरस कहलाता है, और उसके भाई अन्द्रियास को झील में जाल डालते देखा; क्योंकि वे मछवे थे। यीशु ने उन से कहा, “मेरे पीछे चले आओ, तो मैं तुम को मनुष्यों के पकड़नेवाले बनाऊंगा।” वे तुरन्त जालों को छोड़कर उसके पीछे हो लिए। वहां से आगे बढ़कर, यीशु ने और दो भाइयों अर्थात् जब्दी के पुत्र याकूब और उसके भाई यूहन्ना को देखा। वे अपने पिता जब्दी के साथ नाव पर अपने जालों को सुधार रहे थे। उसने उन्हें भी बुलाया। वे तुरन्त नाव और अपने पिता को छोड़कर उसके पीछे हो लिए।

“मेरे पीछे चलो। मुझे तुम्हारा प्रयोजन है।” जब यीशु ने ऐसा कहा, तो सब ने उनका पालन किया। पतरस, यूहन्ना याकूब,... उनमें से किसी ने भी उनको इनकार नहीं किया। क्योंकि परमेश्वर ने स्वयं उन्हें, “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है,” कहते हुए बुलाया था।
यीशु बिल्कुल परमेश्वर के जैसे नहीं लगते थे। यीशु उनके पास केवल बढ़ई यूसुफ के पुत्र के रूप में प्रकट हुए थे: कोई भी उन्हें सर्वशक्तिमान परमेश्वर, यानी आकाशों को आज्ञा देनेवाले और हजारों स्वर्गदूतों पर शासन करने वाले सृजनहार परमेश्वर के रूप में नहीं पहचान सकता था, जो प्रतापी सिंहासन पर विराजते हैं।
हालांकि, वास्तव में, पृथ्वी के सभी जीव, जब यह सुनते हैं कि परमेश्वर को उनका प्रयोजन है, तो वे हमेशा परमेश्वर की इच्छा को पूरा करने के लिए तैयार रहते हैं। बाइबल में ऐसे एक भी व्यक्ति को नहीं खोज सकते, कि जब परमेश्वर ने उससे कहा हो, “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है,” तो उसने “नहीं” कहा हो। सब ने केवल “हां” कहा है। जब परमेश्वर कहें, “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है,” तो पृथ्वी के किसी भी जीव के पास परमेश्वर को “नहीं” कहते हुए, इनकार करने की शक्ति नहीं है।
जब पौलुस यहूदी धर्म का पालन करता था, तो उस समय वह प्रथम चर्च के संतों को बड़े जोर से सताता था। बाद में वह मसीह पर विश्वास करने लगा था, लेकिन बहुत से तब भी उससे डरते थे। हालांकि, मसीह ने सपने में आकर उनसे कहा, “उससे मत डरो।”

प्रे 9:15 ... क्योंकि वह तो अन्यजातियों और राजाओं और इस्राएलियों के सामने मेरा नाम प्रगट करने के लिये मेरा चुना हुआ पात्र है।

जब परमेश्वर किसी व्यक्ति को बुलाते हैं, तो चाहे वह हठीला और उग्र हो, चाहे वह अब किसी दूसरे धर्म में विश्वास करता हो, उसे सत्य के सामने अपना सिर झुकाना ही पड़ता है। यही परमेश्वर की इच्छा है।

जिनका प्रयोजन परमेश्वर को है उनके आशीर्वाद


अब यह आत्मिक पतझड़, कटनी का समय चल रहा है। इस युग में परमेश्वर को हमारा प्रयोजन है। इस संसार में लगभग छह अरब लोग हैं। वे समुद्र के बालू के समान हैं। उन सब में से परमेश्वर ने आपको और मुझे, “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है,” कहते हुए बुलाया है।
परमेश्वर स्वयं को मेरा प्रयोजन है। यह कितना महान आशीर्वाद है! जिनका परमेश्वर को प्रयोजन था और जिन्हें बुलाया गया था, उन सब में से किसने गलत किया या कौन चला गया? कोई भी नहीं। पतरस, केवल एक मछुआ था और कम जाना गया था। हालांकि, परमेश्वर को उसका प्रयोजन हुआ और उसे सत्य में ले आए, और वह प्रेरितों का प्रेरित बन गया। आज वह सभी मसीहियों के द्वारा सम्मानित किया जाता है। प्रेरित पौलुस के बारे में कैसा है? कभी वह सत्य के खिलाफ था और संतों को सताता था। जब परमेश्वर को उसका प्रयोजन हुआ और उसे बदलने के लिए बुलाया, तो उसने अन्यजाति के लोगों और राजाओं के सामने प्रचार किया कि यीशु मसीह हैं और बहुत सी पीड़ा पाने पर भी, नई वाचा का प्रचार किया। परिणाम स्वरूप, वह आज भी सभी मसीहियों के द्वारा ऊंचे पद से सम्मानित किया जाता है। इस प्रकार जिनका प्रयोजन परमेश्वर को पड़ा, उन सब ने आदर पाया।
अब, परमेश्वर को हमारा प्रयोजन है; यहां तक कि स्वर्गदूत भी हमारे कार्य के लिए हम से ईर्ष्या करते हैं। क्या यह संसार स्वर्ग से अच्छा है? कदापि नहीं। फिर भी स्वर्गदूत हमारे कार्य के लिए, यानी नई वाचा के सुसमाचार का प्रचार करने के लिए, जो हम इस पृथ्वी पर करते हैं, हम से ईर्ष्या करते हैं।(1पत 1:10–12)
अब, वह समय आ गया है कि जब परमेश्वर अपना महिमामय कार्य पूरा करेंगे। जब हमें बुलाया जाता है, तो हमें हिचकिचाना नहीं चाहिए। जब परमेश्वर ने पतरस, यूहन्ना और याकूब को बुलाया था, तो उन्होंने क्या किया था? वे मसीह का और उनके कार्यों का पालन करने से नहीं हिचकिचाए। उनके समान, हमें भी बिना किसी हिचकिचाहट के परमेश्वर के बुलावे का उत्तर देना चाहिए।
उनका जीवन बहुत घटनापूर्ण रहा था; उन्होंने बड़ी तकलीफें पाईं, और वे सताए गए। हालांकि, जब परमेश्वर ने उनसे कहा कि परमेश्वर को उनका प्रयोजन है, तो उन्होंने आज्ञाकारिता के साथ स्वेच्छा से परमेश्वर का पालन किया। उन्होंने अपनी बाहरी परिस्थिति के बारे में चिन्ता नहीं की। उन्होंने केवल परमेश्वर के बुलावे के योग्य पात्र बनने के लिए हर प्रकार के प्रयास किए।

यश 60:1–22 उठ, प्रकाशमान हो; क्योंकि तेरा प्रकाश आ गया है, और यहोवा का तेज तेरे ऊपर उदय हुआ है। देख, पृथ्वी पर तो अन्धियारा और राज्य राज्य के लोगों पर घोर अन्धकार छाया हुआ है; परन्तु तेरे ऊपर यहोवा उदय होगा, और उसका तेज तुझ पर प्रगट होगा। जाति जाति तेरे पास प्रकाश के लिये और राजा तेरे आरोहण के प्रताप की ओर आएंगे। अपनी आंखें चारों ओर उठाकर देख; वे सब के सब इकट्ठे होकर तेरे पास आ रहे हैं; तेरे पुत्र दूर से आ रहे हैं, और तेरी पुत्रियां हाथों–हाथ पहुंचाई जा रही हैं। तब तू इसे देखेगी और तेरा मुख चमकेगा, और तेरा हृदय थरथराएगा और आनन्द से भर जाएगा... ये कौन हैं जो बादल के समान, और दरबों की ओर उड़ते हुए कबूतरों के समान चले आते हैं?... वे मेरे लगाए हुए पौधे और मेरे हाथों का काम ठहरेंगे, जिस से मेरी महिमा प्रगट हो। छोटे से छोटा एक हजार हो जाएगा और सब से दुर्बल एक सामर्थी जाति बन जाएगा। मैं यहोवा हूं; ठीक समय पर यह सब कुछ शीघ्रता से पूरा करूंगा।

यदि परमेश्वर कहते हैं, “मैं यह करूंगा,” तो जैसा उन्होंने कहा वैसा ही हो जाता है। यदि परमेश्वर कहें कि वह कुछ करेंगे, तो सब कुछ सम्भव है और कथित रूप से पूरा होता है। जब परमेश्वर ने कहा कि उन्हें गदहे का प्रयोजन है, तो चेले उसे लाने के लिए चले गए। जब परमेश्वर ने कहा कि उन्हें किसी का प्रयोजन है, तो किसी ने भी उनकी उपेक्षा नहीं की है। सभी जीव इस बात की प्रतीक्षा कर रहे थे कि परमेश्वर उनका इस्तेमाल करें।
गदहे के लिए भी वैसा ही हुआ। जब परमेश्वर ने कहा कि उन्हें उसका प्रयोजन है, तो उसके मालिक ने चेलों के साथ कोई जान पहचान न होने पर भी उसे उन्हें दे दिया। तब, क्यों ऐसी साधारण लगने वाली बात सुसमाचार में लिखी गई है? हमें इसके बारे में सोचना चाहिए।
जरा उस गदहे के बारे में सोचिए जिसे चेले यीशु के पास लेकर आए जब यीशु ने कहा कि उन्हें उसका प्रयोजन है। उस समय इस्राएल में बहुत से गदहे होंगे। उन सब में से केवल एक ही गदहे का प्रयोजन था, और उसे यीशु के पास ले आया गया, और राजाओं के राजा और प्रभुओं के प्रभु के यरूशलेम में प्रवेश करने के लिए उसका उपयोग किया गया। चाहे वह एक प्राणी था, वह कितना धन्य हो गया होगा! वह गदहा जिसे परमेश्वर ने भविष्यवाणी पूरा करने के लिए पसंद किया वह सुपरिचित है; लगभग दो हजार साल बीत चुके हैं, फिर भी हम उसकी बात करते हैं।
मरकुस की अटारी के लिए भी वैसा ही है। जब यीशु ने कहा कि उन्हें उसका प्रयोजन है, तो उसके मालिक ने उसे तैयार किया। पूरी दुनिया में सब लोगों के द्वारा आज भी याद की जाने वाली वह एकमात्र अटारी है। जब परमेश्वर किसी का उपयोग करते हैं और उसे चुनते हैं, तो सब कुछ विख्यात हो जाता है। उनकी महिमा महान होती है और सदा काल तक टिकती है।
इस संसार में बहुत से लोगों को यह पता नहीं कि वे क्यों जन्मे हैं। हालांकि, परमेश्वर ने हमें स्वर्ग की महिमा दिखाई है।
छह अरब लोगों में से, केवल 1,44,000 ही हैं जिनका प्रभु को प्रयोजन है और जिन्हें चुना गया है। उन्होंने एक बार बहुत गदहों में से एक को चुना था, ताकि वह भविष्यवाणी को पूरा कर सकें। उन्होंने इस्राएल में बहुत से अतिथि कक्षों में से मरकुस की अटारी को चुना था। इस तरह से, इन अंतिम दिनों में उन्होंने 1,44,000 को परमेश्वर के और मेमने के प्रथम फल होने के लिए चुना और बुलाया है।
इस संसार में ऐसे बहुत से प्रवक्ता हैं जिनके पास बहुत ज्यादा विद्वत्ता है। हालांकि, परमेश्वर ने उन्हें नहीं चुना। उन्होंने हमें बुलाया है और कहा, “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है।” जब परमेश्वर ने हमें बुलाया, उस समय यदि हम आमीन कहें, तो हम सब परमेश्वर की महिमा के लिए भविष्यवाणी संबंधित नायक बन जाएंगे।

जाओ और सब जातियों के लोगों को चेला बनाओ


अब जैसे कि परमेश्वर ने हमें बुलाया है, केवल परमेश्वर के द्वारा हमारा इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

मत 28:18–20 यीशु ने उनके पास आकर कहा, “स्वर्ग और पृथ्वी का सारा अधिकार मुझे दिया गया है। इसलिये तुम जाओ, सब जातियों के लोगों को चेला बनाओ; और उन्हें पिता, और पुत्र, और पवित्र आत्मा के नाम से बपतिस्मा दो, और उन्हें सब बातें जो मैं ने तुम्हें आज्ञा दी है, मानना सिखाओ: और देखो, मैं जगत के अन्त तक सदा तुम्हारे संग हूं।”

परमेश्वर को जिनका प्रयोजन है, वे जगत के अंत तक भी परमेश्वर के साथ रहते हैं। छह अरब लोगों में से, कौन हैं जिनके परमेश्वर हमेशा संग हैं और जिनसे परमेश्वर पे्रम करते हैं? क्या वे हम सब नहीं हैं? परमेश्वर ने हमें “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है,” कहते हुए बुलाया है।
सुकरात नामक एक विख्यात यूनानी दर्शनशास्त्री ने कहा था: “अपने आपको जानो।” यह बड़ी विचित्र विडम्बना है कि सुकरात और यहां तक कि बुद्ध भी अपने आपको नहीं जानते थे। हालांकि, हम अपने आपको जानते हैं; हम इस पृथ्वी पर क्यों पैदा हुए हैं, क्यों ऐसा दयनीय जीवन जी रहे हैं, हम कहां से आए हैं, और हम कहां जा रहे हैं। परमेश्वर ने हमें यह सब बताया है।
चूंकि अनन्त राज्य हमारी प्रतीक्षा कर रहा है, हमें इस पृथ्वी पर की व्यर्थ चीजों में अपना समय नहीं गंवाना चाहिए; हमें उस कार्य के प्रति और भी ज्यादा वफादार होना चाहिए जिसके लिए परमेश्वर ने हमें बुलाया है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि हमें अपनी पृथ्वी पर की जिम्मेदारियों की उपेक्षा करनी चाहिए। स्वर्ग में अनन्त जीवन के लिए, हमें इस पृथ्वी पर एक विश्वासयोग्य और अनुकूल जीवन जीना चाहिए।
दो हजार साल पहले, गदहे को मसीह को जो राजाओं के राजा हैं और प्रभुओं के प्रभु हैं, यरूशलेम तक ले आने के लिए चुना गया था। मरकुस की अटारी फसह के लिए तैयार की गई जिसे यीशु नई वाचा के रूप में स्थापित करने वाले थे। अब, हमारे पास उस गदहे या फिर उस अटारी से भी ज्यादा महान कार्य है।
परमेश्वर ने हमें बुलाया है और कहा है, “जाओ, सब जातियों के लोगों को चेला बनाओ, और उन्हें पिता, और पुत्र, और पवित्र आत्मा के नाम से बपतिस्मा दो, और उन्हें सब बातें जो मैं ने तुम्हें आज्ञा दी है, मानना सिखाओ।” यही वह कार्य है जिसे करने के लिए परमेश्वर ने हमें बुलाया है।
जैसे परमेश्वर ने हमें पहले से कह दिया है, हमें उन्हें चेला बनाना चाहिए। यदि आप किसी को प्रचार करें, और यदि वह सन्देह करे या फिर हिचकिचाए, तो उससे कहिए कि प्रभु को उसका प्रयोजन है। तब वह आने के लिए नहीं हिचकिचाएगा।
यदि हम विश्वास के साथ कार्य करें, तो परमेश्वर हमारी सहायता करते हैं। परमेश्वर हमारे विश्वास का आकलन करते हैं। वह हमारी तुरन्त ही सहायता नहीं करते; बल्कि वह हमारे 100 प्रतिशत विश्वास धारण करने का इंतजार करते हैं, और तब अपनी सामथ्र्य हमें देते हैं। जब तक हमारे पास संपूर्ण विश्वास नहीं होता, परमेश्वर इंतजार करते हैं।
परमेश्वर हम से कहते हैं, “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है।” उन्होंने हमें जो इस संसार में कमजोर हैं, चुना है, और हमें अंतिम धर्म सुधार करने का एक महान कार्य दिया है।
परमेश्वर आत्मा और दुल्हिन के रूप में आए हैं और “मुझे तुम्हारा प्रयोजन है,” कहते हुए हमें सुसमाचार का कार्य सौंपा है। यह कितना कृपालु है! चूंकि यह परमेश्वर की इच्छा है कि वह इस अंतिम धर्म सुधार के लिए हमारा इस्तेमाल करना चाहते हैं, यह शीघ्रता से पूरा हो जाएगा। अब, केवल एकमात्र चीज जो हमें करनी है वह है, सिर्फ परमेश्वर की इच्छा का पालन करना।
चाहे हम कमजोर हैं, परमेश्वर को हमारा प्रयोजन है। इसलिए, हम जिस किसी से भी मिलें, विश्वास के साथ कह सकते हैं, “प्रभु को तुम्हारा प्रयोजन है। चलो!” “प्रभु ने मुझे तुम्हें उनके पास ले जाने के लिए कहा है,” “प्रभु ने कहा है कि उन्हें तुम्हारा प्रयोजन है।” सिय्योन के भाइयो और बहनो! हम वे हैं जिनका प्रभु को प्रयोजन है। आइए हम इन अंतिम दिनों में और ज्यादा पवित्र आत्मा को पाकर, ईमानदारी से सुसमाचार के प्रचार का कार्य करें।