한국어 English 日本語 中文 Deutsch Español Tiếng Việt Português Русский लॉग इनरजिस्टर

लॉग इन

आपका स्वागत है

Thank you for visiting the World Mission Society Church of God website.

You can log on to access the Members Only area of the website.
लॉग इन
आईडी
पासवर्ड

क्या पासवर्ड भूल गए है? / रजिस्टर

2018 विश्वविद्यालय के छात्रों का स्वयंसेवा–दल[ASEZ] शीतकालीन विदेशी स्वयंसेवा कार्य

  • देश | कोरिया
  • तिथि | 03/फरवरी/2018
ⓒ 2018 WATV
ⓒ 2018 WATV
ASEZ विश्वविद्यालयों के छात्रों ने कम्बोडिया से प्राथमिक स्कूल के छात्रों को स्टेशनरी सामग्रियों का दान दिया और कोरिया भाषा शिक्षण कार्यक्रम चलाया।



युवा वयस्कों का जोश माइनस 40 डिग्री सेल्सियस में ठंडा नहीं होता या 40 डिग्री तापमान में भी नहीं मुरझाता। चर्च ऑफ गॉड के विश्वविद्यालय के छात्रों के स्वयंसेवा–दल ASEZ ने जो पर्यावरण को सुरक्षित रखने और पर्यावरण के प्रति लोगों की जागरूकता बढ़ाने का प्रयास करता है, सर्दियों की छुट्टी के दौरान अपनी उत्साहपूर्ण गतिविधियों को जारी रखा। जनवरी से फरवरी के बीच, छात्र 23 देशों के 34 शहरों में गए, और उन्होंने संस्कृतियों का आदान–प्रदान और अपने अनुभव का विस्तार करने के लिए विभिन्न कार्यक्रम और स्वयंसेवा कार्य का संचालन किया।

इस बार, उनका स्वयंसेवा कार्य माता की सड़क बनाने के लिए, सड़क सफाई पर ध्यान केंद्रित था। माता अपने घर के हर कोने को स्वच्छ और साफ सुथरा रखती है और अपने घर को हार्दिक और गर्माहट बनाती है। माता की सड़क परियोजना नियमित रूप से 1 किलोमीटर का अंतर साफ करना है जिसमें माता के मन से पर्यावरण की उन्नति करने की आवश्यकता है, और इसके अलावा पृथ्वी की परिधि, 40,000 किलोमीटर को उज्ज्वल और स्वच्छ करना है।

दक्षिण अफ्रीका का गणराज्य के जोहानेसबर्ग और इंडोनेशिया के मेदान में, उन्होंने स्थानीय छात्रों और नागरिकों के साथ मिलकर विश्वविद्यालय कैंपस के आसपास सफाई की। मंगोलिया के उलानबाटर में, उन्होंने सड़क के किनारों पर जमे हुए हिम और बर्फ को हटा दिया और उसके नीचे के कूड़े और गंदगी को साफ किया। भारत में मेघालय विज्ञान और तकनीक विश्वविद्यालय जैसे स्थानीय विश्वविद्यालय ने पर्यावरण को बचाए रखने के महत्व को जानने देने के लिए पर्यावरण सेमिनार को आयोजित किया।

ⓒ 2018 WATV

ASEZ की सड़क सफाई स्थानीय क्षेत्रों में पर्यावरण संरक्षण संस्कृति को बसाने के विदेशी स्वयंसेवा कार्यों में से एक कार्य है। सड़क सफाई कार्य में धाराप्रवाह विदेशी भाषा की क्षमता या विशेष उपकरण या कौशल की जरूरत नहीं है, लेकिन वह लोगों को उसमें भाग लेने और उनकी जागृकता को सुधारने के लिए अगुवाई कर सकता है।

समझौता ज्ञापन MOU पर हस्ताक्षर करना भी उसी संदर्भ में है। ASEZ ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करके विश्व साझेदारी और नींव को स्थापित किया है जो भविष्य में सरकारी एजंसियों, सरकारी कार्यालयों, स्थानीय स्वतंत्र हस्तियों और विश्वविद्यालयों जैसे कि पेरू में थरूहियो सिटी हॉल और बोलिविया में सान सिमोन का विश्वविद्यालय के साथ सहयोग की प्रतिज्ञा करता है, ताकि सड़क सफाई कार्य सरकार और प्रादेशिक नगर पालिका की परवाह और समर्थन में जारी रह सके।

विश्वविद्यालय के छात्रों ने सड़क सफाई के अलावा प्राथमिक स्कूल के छात्रों के लिए कोरिया भाषा शिक्षण और स्टेशनरी सामग्रियों का दान देने के स्वयंसेवा कार्यों में भाग लिया जिनकी स्थानीय समुदाय के लिए जरूरी है फिलीपींस में लास पीनास सिटी हॉल सहित विभिन्न संगठन ASEZ की गतिविधियों के द्वारा प्रेरित हुए और अपने दृढ़ समर्थन को व्यक्त करते हुए सराहना और प्रशस्ति पत्र के प्रमाण पत्र प्रदान किए। एक संस्थान ने माता की सड़क के साइनबोर्ड को स्थापित करके ASEZ की गतिविधियों को याद रखने की प्रतिज्ञा भी की। बोलिविया में सान सीमोन के विश्वविद्यालय के प्रोफेसर गेरारडो गुझमन अलानेस यह कहते हुए साथ में काम करना चाहते थे, “ASEZ अच्छा नमूना दिखाता है कि कैसे विश्वविद्यालय के छात्रों को कैंपस में कार्य करना चाहिए।”

ⓒ 2018 WATV

पार्क छांग–उन(कोरिया में ग्येम्यंग विश्वविद्यालय) जो मंगोलिया के उलानबाटर में थी, ने ठंड में मोटा बर्फ तोड़ने का अपना अनुभव बताया, जहां उसके खुदके श्वास से मुखौटे और पलकें भी जम गई और अपना फावड़ा भी टूट गया। “मुझे जान पड़ा कि कमजोर होने के बावजूद बहुत सी चीजें हैं जो मैं कर सकती हूं। मैं उस जगह में उत्साह से काम करना चाहती हूं जहां मेरी जरूरत है।” छोई जी–उन(कोरिया में सुकम्यंग महिला विश्वविद्यालय) जिसने ग्रीस के एथेंस में स्वयंसेवा की, ने कहा, “भले ही योजना बनाने में और उसे करने में ज्यादा समय नहीं लगा, लेकिन लोगों का धारणा बदल गई। बदलाव देखकर, मुझे बहुत अधिक प्रेरणा मिली। अब मुझे आश्वासन मिला कि हम अपनी छोटी गतिविधियों के द्वारा दुनिया को बदल सकते हैं, इसलिए मैं सक्रिय रूप से किसी भी ऐसे कार्य में शामिल होऊंगी जिसका दुनिया पर सकारात्मक प्रभाव हो।”

भले ही कुछ एक व्यक्ति के लिए बहुत अधिक काम है, लेकिन यदि वह एकसाथ किया जाए तो वह आसान होगा। जब बहुत से छोटे मददगार हाथ इकट्ठा होते हैं, तब वे दुनिया को बदलने के लिए महान शक्ति बनेंगे। उज्ज्वल और हार्दिक दुनिया बनाने के लिए ASEZ का स्वयंसेवा कार्य हमारे वैश्विक पड़ोसियों के साथ नई छमाही, पूरे कैंपस में जारी रहेगा।

चर्च का परिचय वीडियो
CLOSE